Facebook Youtube Instagra Linkedin Twitter

जन्म कुंडली में ग्रहों की युतिया और उनका शुभ अशुभ प्रभाव Conjunction Of Planets in Horoscope

Share

Deepika Maheshwari 21st Oct 2019

जब कुंडली के किसी घर में एक ही राशि में एक या दो से से अधिक ग्रह एक साथ बैठ जाए तो उसे ग्रहों की युति कहा जाता है जिसे अंग्रेजी में कंजंक्शन आफ प्लैनेट्स बोलते हैं किसी कुंडली में ग्रहों की युति बहुत सी योग का निर्माण करते हैं अगर दो अच्छे कारक ग्रहों की युति कुंडली में हो जाए तो राज योग बन जाते हैं पर अगर दो मारक ग्रह है या एक कारक ग्रह एक मारक ग्रह साथ में बैठ जाए तो कुछ दोषों का निर्माण होता है और ग्रहों की युति कुंडली में अच्छा फल देगी या बुरा फल देगी यह सिर्फ और सिर्फ उस ग्रह की प्लेसमेंट उसकी कारकता मारकता को देखकर ही निश्चय किया जाता है जैसे गुरु और चंद्र दोनों सौम्य ग्रह हैं दोनों अच्छे ग्रह होते हैं तो इन से बनने वाला योग गजकेसरी योग होता है पर अगर चंद्रमा और शनि बैठ जाए तो विपरीत प्रवृत्ति के ग्रहों का साथ हो जाने से विष दोष का निर्माण होता है जो कुंडली पर नकारात्मक प्रभाव डालता है किसी कुंडली को लेकर किए जाने वाले फलादेश में इन कंजंक्शन को पढ़ना बहुत जरूरी होता है


Comments

Post
Top