Facebook Blogger Youtube

प्रेम विवाह के लिए कुंडली में आवश्यक होते हैं ये योग

Astro Arvind shukla 10th Sep 2017

प्रेम विवाह के लिए कुंडली में आवश्यक होते हैं ये योग

प्रेम विवाह के लिए कुंडली में आवश्यक होते हैं ये योग

आजकल अधिकतर युवा वर्ग ये जानना चाहता है कि उसका प्रेम विवाह होगा या नहीं, अगर आप भी इस प्रश्न का उत्तर जानना चाहते हैं तो अपनी कुंडली में छिपे इस प्रेम विवाह योग के बारे में जानें। अगर आपकी कंडली में प्रेम विवाह योग है तो आपके प्रेम विवाह को कोई नहीं रोक सकता है। चलिए आपको बताते हैं किन योगों के कुडली में होने से प्रेम विवाह होता है...

जन्म कुंडली में विवाह कारक ग्रह पंचम के साथ संबंध बनाता हो अथवा 5 का 2, 7, 11 से संबंध हो तो प्रेम विवाह होता है।

सप्तम भाव का सब लॉर्ड पंचम भाव का प्रबल कार्येश हो तो प्रेम विवाह अवश्य होता है।

जिस जातक के दोनों हाथों पर हृदय रेखा में द्वीप चिन्ह हो और शुक्र रेखा स्वास्थ्य रेखा को काटकर ऊपर जाए, निश्चय ही ऐसे व्यक्ति का अवैध प्रेम संबंध होता है।

जिस जातक के हाथ की हृदय रेखा या बुध क्षेत्र पर जाए, उसका किसी निकट संबंधी या रिश्तेदार से प्रेम संबंध होता है।

 


Comments

Post

Latest Posts