PALMISTRY

Share

Astro Rakesh Periwal 16th Mar 2017

S'M

Namaste dosto

Aaj ham hasth rekha par charcha karte he ya jo bhi mera anubhav he usko aap ke sath share karna chahta hu !!! jyotish me hasth rekha bhut muskil style he . mene bhut logo ke dekha hath pakad ke beth jate he or esa besa bolne lagte he 10 me se 4 bate sahi or ho gai palm reading!! me kundali se bhi bhut jyada biswas hasth rekha ya face reading pe karta hu kabhi face reading  ki bhi charcha karnege!!! aaj hasth rekha par bat karte he kundali me agar aap ka janm ka samay sahi nahi to sab galat jayega ya anubhavi astrologer 2/3 kundaliya banake aap ke chahre se match kar ke sahi kundali bana payega or ye bhut experiance ki bat he jo normal astro ke liye sambhav nahi he !!! eshi liye me hasth rekha ya chahre ki bat karta hu jo bhi grah aap ke chahre ya hath pe he bo ek dam sahi he usme koi galti nahi bas usko padna ana chahiye !

ham jab hi hath ke parkar (type) ki bat karte he sastro or kitabo me koi 14 to koi 7 parkar ke hatho ki bat karta he par me sirf 3 tarha ke hatho ko recomend karunga taki readers ko samajne me problam nahi ho esme ham bat karenge  sakat hath (hard palm) mulayam hath (soft hand) & mishrit hath (mix hand) baki bhut type bta sakta hu par ye teen ko agar aap samaj gaye to baki difrence aap khud bhi kar payenge yha anubhav ki jarurat he !!! 

hard hand (sakth hath) jiska bhi hoga usko chije bhut mahnat se milegi me yah nahi khta ke uske pas kuch kami hogi par fir bhi mahanat lage gi chizo ko banane ya pane me mene bhut se hath dekhe he or bhut ache logo ke jinke pas bhut pesa or nokar chakar he par fir bhi kisi bhi karan se kyo na ho unko har kam me paresani ya mahanat ya deri ki bhi ham yha bat kar sakte he!!!

soft hand (mulayam hath) agar kisi jatak ka hath bhut soft he to yha do chize hoti he ya to bhut kismat bala he ya bhut kamjor but jab ham kismat ki bat karenge to me khna chahunga unko life me kam mahnat ke bad bhi bhut mil jata he or ese log fun loving flerty & lucky hote he pesa or sadhan aram se mil jate he.

mix hand (mishrit hath) esh type ke hath sab se comman or ache hote he jinko kismat or mahnat dono se safalta milti he en logo ko toda perental & toda selfmad dono tarike se fayda hota he .

dosto abhi tak mene kisi bhi rekha ki ya mount ki bat nahi ki he ye ek sab me aap ko basic par bhut kam ki jankari de rha hu taki aap log jo bilkul bhi astrology ya kuch bhi nahi janta apne nuture ya kismat ko samajh paye ke ke hath ka type ky he or uske anurup agar aap apni life style ya kary sheli apnaye to aap ko fayda hoga  mean agar aap ko ye pata he ki meri kismat ka isara hard work karne ka he ya aram se chize milgi ya dono trike se!!!! 

me ek paryas kar rha hu aap logo ko samjhane ka & aaj me kisi bhi rekha ya mount ki bat nahi karunga taki jab next article dalu to aap ko samaj ne me asani ho kyoki tab tak aap apne hath ka type or kismat ne kya rasta dikhaya he taraki ka ye samaj te honge !!! kundali ke bhavo ko or graho ko samajna asan he par hath ki rekhao ko padna or satick jankari dena bhut muskil but mere najar me ye sab se biswasniye he kyo ki hath mere liye kitab he or me usse padne me sab se acha to nahi bolunga par bhut se acha hu !!! 

dosto mere pas kai styles he pritictions ki samay samay par charcha karenge !! jsr    aapka  astrologer  bharat sharma 

 


Like (1)

Comments

Post

Latest Posts

*वसंत नवरात्र 13 अप्रैल से 21 अप्रैल 2021 तक* चैत्र नवरात्रि घटस्थापना का शुभ मुहूर्त 13 अप्रैल दिन मंगलवार प्रातः 5:30 से 10:15 तक। अभिजीत मुहूर्त 11:56 से दोपहर 12: 47 तक होगा। 13 अप्रैल से नव संवत्सर भारतीय नववर्ष की शुरुआत भी होगी। क्रमश: नवरात्र 13 अप्रैल प्रतिपदा ,शैलपुत्री। 14 अप्रैल द्वितीया, ब्रह्मचारिणी। 15 अप्रैल तृतीया, चंद्रघंटा। 16 अप्रैल चतुर्थी ,कुष्मांडा। 17 अप्रैल पंचमी, स्कंदमाता। 18 अप्रैल षष्ठी, कात्यायनी। 19 अप्रैल सप्तमी, कालरात्रि। 20 अप्रैल अष्टमी, महागौरी। 21 अप्रैल नवमी, सिद्धिदात्री मां का पूजन होता है। ज्योतिषाचार्य अजय शास्त्री के अनुसार दुर्गा सप्तशती नारायण अवतार श्री व्यास जी द्वारा रचित महापुराणों में मार्कंडेय पुराण से ली गई है। इसमें 700 श्लोक व 13 अध्यायों का समावेश होने के कारण इसे सप्तशती का नाम दिया गया है। तंत्र शास्त्रों में इसका सर्वाधिक महत्व प्रतिपादित है और तांत्रिक क्रियाओं का इसके पाठ में बहुत उपयोग होता है। दुर्गा सप्तशती में 360 शक्तियों का वर्णन है। ज्योतिषाचार्य ने बताया है कि शक्ति पूजन के साथ भैरव पूजन भी अनिवार्य है। दुर्गासप्तशती का हर मंत्र ब्रह्मवशिष्ठ विश्वामित्र ने शापित किया है। शापोद्धार के बिना पाठ का फल नहीं मिलता दुर्गा सप्तशती के 6 अंगों सहित पाठ करना चाहिए कवच, अर्गला, कीलक और तीनों रहस्य महाकाली महालक्ष्मी महासरस्वती का रहस्य बताया गया है। नवरात्रि में दुर्गा सप्तशती की चरित्र का क्रमानुसार पाठ करने से शत्रु नाश और लक्ष्मी की प्राप्ति व सर्वदा विजय होती है।

यस्मिन् जीवति जीवन्ति बहव: स तु जीवति | काकोऽपि किं न कुरूते चञ्च्वा स्वोदरपूरणम् || If the 'living' of a person results in 'living' of many other persons, only then consider that person to have really 'lived'. Look even the crow fill it's own stomach by it's beak!! (There is nothing great in working for our own survival) I am not finding any proper adjective to describe how good this suBAshit is! The suBAshitkAr has hit at very basic question. What are all the humans doing ultimately? Working to feed themselves (and their family). So even a bird like crow does this! Infact there need not be any more explanation to tell what this suBAshit implies! Just the suBAshit is sufficient!! *जिसके जीने से कई लोग जीते हैं, वह जीया कहलाता है, अन्यथा क्या कौआ भी चोंच से अपना पेट नहीं भरता* ? *अर्थात- व्यक्ति का जीवन तभी सार्थक है जब उसके जीवन से अन्य लोगों को भी अपने जीवन का आधार मिल सके। अन्यथा तो कौवा भी भी अपना उदर पोषण करके जीवन पूर्ण कर ही लेता है।* हरि ॐ,प्रणाम, जय सीताराम।

न भारतीयो नववत्सरोSयं तथापि सर्वस्य शिवप्रद: स्यात् । यतो धरित्री निखिलैव माता तत: कुटुम्बायितमेव विश्वम् ।। *यद्यपि यह नव वर्ष भारतीय नहीं है। तथापि सबके लिए कल्याणप्रद हो ; क्योंकि सम्पूर्ण धरा माता ही है।*- ”माता भूमि: पुत्रोSहं पृथिव्या:” *अत एव पृथ्वी के पुत्र होने के कारण समग्र विश्व ही कुटुम्बस्वरूप है।* पाश्चातनववर्षस्यहार्दिकाःशुभाशयाः समेषां कृते ।। ------------------------------------- स्वत्यस्तु ते कुशल्मस्तु चिरयुरस्तु॥ विद्या विवेक कृति कौशल सिद्धिरस्तु ॥ ऐश्वर्यमस्तु बलमस्तु राष्ट्रभक्ति सदास्तु॥ वन्शः सदैव भवता हि सुदिप्तोस्तु ॥ *आप सभी सदैव आनंद और, कुशल से रहे तथा दीर्घ आयु प्राप्त करें*... *विद्या, विवेक तथा कार्यकुशलता में सिद्धि प्राप्त करें,* ऐश्वर्य व बल को प्राप्त करें तथा राष्ट्र भक्ति भी सदा बनी रहे, आपका वंश सदैव तेजस्वी बना रहे.. *अंग्रेजी नव् वर्ष आगमन की पर हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं* ज्योतिषाचार्य बृजेश कुमार शास्त्री

आलस्यं हि मनुष्याणां शरीरस्थो महान् रिपुः | नास्त्युद्यमसमो बन्धुः कृत्वा यं नावसीदति || Laziness is verily the great enemy residing in our body. There is no friend like hard work, doing which one doesn’t decline. *मनुष्यों के शरीर में रहने वाला आलस्य ही ( उनका ) सबसे बड़ा शत्रु होता है | परिश्रम जैसा दूसरा (हमारा )कोई अन्य मित्र नहीं होता क्योंकि परिश्रम करने वाला कभी दुखी नहीं होता |* हरि ॐ,प्रणाम, जय सीताआलस्यं हि मनुष्याणां शरीरस्थो महान् रिपुः | नास्त्युद्यमसमो बन्धुः कृत्वा यं नावसीदति || Laziness is verily the great enemy residing in our body. There is no friend like hard work, doing which one doesn’t decline. *मनुष्यों के शरीर में रहने वाला आलस्य ही ( उनका ) सबसे बड़ा शत्रु होता है | परिश्रम जैसा दूसरा (हमारा )कोई अन्य मित्र नहीं होता क्योंकि परिश्रम करने वाला कभी दुखी नहीं होता |* हरि ॐ,प्रणाम, जय सीताराम।राम।

Top